आंदोलनकारियों ने फिर किया दिल्ली पुलिस पर हमला, राकेश टिकैत का आया बड़ा बयान

Delhi NCR

किसानों द्वारा दिल्ली पुलिस की स्पेशल ब्रांच के दो असिस्टेंड सब-इंस्पक्टरों पर कथित रूप से हमला करने के मामले में संयुक्त किसान मोर्चा ने अब तक मुंह नहीं खोला है। बता देें कि इससे छह महीने के दौरान किसान प्रदर्शनकारी 2 बार पुलिस पर हमला बोल चुके हैं। एक बार तो एक निहंग प्रदर्शनकारी ने तलवार से हमला बोलकर कई पुलिसवालों को घायल कर दिया था। ताजा मामला थोड़ा गंभीर है, लेकिन किसानों की तरफ से अभी इस घटना के बारे में कोई बयानजारी नहीं किया गया है। बता दें कि तीनों नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के आंदोलन के 26 जून को 7 महीने होने जा रहे हैं।

New Delhi/TezzMedia.com

तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर पंजाब और हरियाणा के किसानों का प्रदर्शन जारी है। वहीं, सिंघु बॉर्डर पर एक बार फिर दिल्ली पुलिस के जवानों पर किसान प्रदर्शनकारियों द्वारा हमला करने का मामला सामने आया है। दिल्ल पुलिस पर कथित हमले का मामला 2 दिन पहले यानी 10 जून का है। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदोलन के धरना स्थल की फोटो खींचने के दौरान प्रदर्शनकारी किसानों के एक समूह ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल ब्रांच के दो असिस्टेंड सब-इंस्पक्टरों पर कथित रूप से हमला कर दिया। घटना 10 जून की है। वहीं, इस हमले के संबंध में नरेला थाने में एफआइआर दर्ज कराई गई है और पूरे मामले की जांच की जा रही है।

वहीं, हमले को लेकर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने समाचार एजेंसी एएनआइ से कहा कि दिल्ली पुलिस और सरकार किसानों को भड़काना चाहते हैं। यदि वे (पुलिस) कई दिनों से साइट का दौरा कर रहे हैं, तो संपर्क स्थापित किया जाना चाहिए था। वे एफआईआर दर्ज कर सकते हैं, लेकिन उसमें लिखने के लिए कुछ होना चाहिए। भाकियू नेता राकेश टिकैत ने यह भी कहा कि वे (पुलिस) नागरिक पोशाक में रहे होंगे और किसानों ने उन्हें चैनल के लोग (मीडिया) के लिए गलत समझा होगा जो उनके आंदोलन को खराब करना चाहते हैं।

किसान संगठनों ने साधी चुप्पी

उधर, किसानों द्वारा दिल्ली पुलिस की स्पेशल ब्रांच के दो असिस्टेंड सब-इंस्पक्टरों पर कथित रूप से हमला करने के मामले में संयुक्त किसान मोर्चा ने अब तक मुंह नहीं खोला है। बता देें कि इससे छह महीने के दौरान किसान प्रदर्शनकारी 2 बार पुलिस पर हमला बोल चुके हैं। एक बार तो एक निहंग प्रदर्शनकारी ने तलवार से हमला बोलकर कई पुलिसवालों को घायल कर दिया था। ताजा मामला थोड़ा गंभीर है, लेकिन किसानों की तरफ से अभी इस घटना के बारे में कोई बयानजारी नहीं किया गया है। बता दें कि तीनों नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के आंदोलन के 26 जून को 7 महीने होने जा रहे हैं।

गौरतलब है कि तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के किसान सिंघु, टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर पिछले साल नवंबर के अंतिम सप्ताह से प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान संगठनों का कहना है कि कृषि कानूनों को रद कराने को लेकर वह सरकार के साथ आर-पार की लड़ाई का एलान कर चुके हैं। किसानों ने सरकार से जल्द उनकी मांगें मानने की अपील की है। वहीं सरकार की तरफ से यह साफ कर दिया गया है कि कानून वापस नहीं होगा, लेकिन संशोधन संभव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Delhi NCR

दिल्ली के हजारों व्यापारियों को बड़ी राहत, उत्तरी निगम नहीं बढ़ाएगी ट्रेड लाइसेंस फीस

उत्तरी निगम ने अगस्त 2020 में इस प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। जिसमें तृतीय निगम मूल्यांकन समिति की सिफारिशों के आधार पर ट्रेड व फैक्ट्री

Delhi NCR

सोमवार से होटल और रेस्तरां खोलने की मिल सकती है अनुमति, आज अरविंद केजरीवाल कर सकते हैं एलान

दिल्ली के ज्यादातर कारोबारियों कहना है कि अब जब कि व्यापारिक गतिविधियां शुरू हो चुकी हैं तो ऐसे में होटल और रेस्तरां को खोला जाना

Delhi NCR

ओलंपियन सुशील कुमार के करीबी अनिरुद्ध को जम्मू लेकर जाएगी दिल्ली पुलिस

माडल टाउन स्थित छत्रसाल स्टेडियम में चार मई की रात को पहलवान सागर धनखड़ की हत्या कर दी गई थी। सुशील इसके लिए नीरज बवाना